भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद
केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान
  • न रा का स पुरस्कार - 2015-16
  • राजर्षि टंडन पुरस्कार - 2014-15
  • राजभाषा कार्यशाला – 2017
  • न रा का स पुरस्कार – सी एम एफ आर आइ का कारवार अनुसंधान केंद्र

Home Official Language

सी एम एफ आर आइ में राजभाषा कार्यान्‍वयन

केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान प्रख्‍यात अनुसंधान संगठन होने के नाते सरकार की राजभाषा नीति के कार्यान्‍वयन के लिए प्रमुखता देता रहता है. वर्ष 1988 में हिन्‍दी अनुभाग की स्‍थापना से लेकर राजभाषा हिन्‍दी संस्‍थान का एक अभिन्‍न अंग है. संस्‍थान में की जाने वाली राजभाषा गतिविधियों में नाम पट्टों, रबड़ की मोहरों, कर्मचारी सदस्‍यों के पहचान पत्र, चार्ट, मुख्‍यालय एवं कृषि विज्ञान केन्‍द्र के प्रशिक्षण कार्यक्रमों के प्रमाण पत्र, विभिन्‍न कार्यक्रमों के बैनरों का द्विाभाषीकरण; कर्मचारियों का हिन्‍दी प्रशिक्षण; हिन्‍दी कार्यशालाओं का नियमित आयोजन; हिन्‍दी चेतना मास का आयोजन; सी एम एफ आर आइ के 10 क्षेत्रीय एवं अनुसंधान केन्‍द्रों की राजभाषा गतिविधियों का अनुवीक्षण आदि प्रमुख हैं.

सी एम एफ आर आइ में राजभाषा हिन्‍दी वैज्ञानिक अनुसंधान कार्यों से जुडी हुई है. संस्‍थान के अनुसंधान कार्यों का विकीर्णन वैज्ञानिक संगोष्ठियों और अनुसंधान पत्रिकाओं द्वारा देश के सभी भागों में विकीर्णन किया जाता है.

राजभाषा नीति के उत्‍कृष्‍ट निष्‍पादन के लिए संस्‍थान को गृह मंत्रालय, भारत सरकार का इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्‍कार, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद का राजर्षि टंडन पुरस्‍कार और नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समितियों के राजभाषा शील्‍ड प्राप्‍त हुए हैं.

केन्‍द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान को इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्‍कार

केन्‍द्र सरकार कार्यालयों में उत्‍कृष्‍ट राजभाषा कार्यान्‍वयन एवं सराहनीय उपलब्धियों के लिए वर्ष 2014-15 का इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्‍कार केन्‍द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान, कोचीन को प्राप्‍त हुआ. विज्ञान भवन, नई दिल्‍ली में हिन्‍दी दिवस दिनांक 14 सितंबर, 2015 को आयोजित गरिमामय हिन्‍दी दिवस समारोह में भारत के ननीय राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी से डॉ. ए. गोपालकृष्‍णन, निदेशक, सी एम एफ आर आइ ने पुरस्‍कार स्‍वीकार किया.

हिन्‍दी चेतना मास समारोह 2016 की संक्षिप्‍त रिपोर्ट

भा कृ अनु प – केन्‍द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्‍थान, कोचीन में सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को अधिकाधिक कार्य हिन्‍दी में करने हेतु प्रोत्‍साहित करने के उद्देश्‍य से 1 से 29 सितंबर 2016 तक विभिन्‍न कार्यक्रमों के साथ हिन्‍दी चेतना मास आयोजित किया गया.

इस दौरान संस्‍थान के कर्मचारियों के लिए हिन्‍दी टिप्‍पण, आलेखन एवं शब्‍दावली, वर्ग पहेली, प्रश्‍नोत्‍तरी, समाचार वाचन आदि प्रतियोगिताएं आयोजित की गयीं.

हिन्‍दी चेतना मास का समापन कार्यक्रम दिनांक 30 सितंबर, 2016 को डॉ. आर. नारायणकुमार, अध्‍यक्ष, एस ई ई टी टी प्रभाग की अध्‍यक्षता में संपन्‍न हुआ. डॉ. नारायणकुमार ने अध्‍यक्षीय भाषण में सरल एवं सहज हिन्‍दी के प्रयोग की आवश्‍यकता बतायी. श्रीमती वर्षा गोडबोले, क्षेत्रीय प्रबंधक, नेशनल इन्‍श्‍योरेन्‍स कंपनी लिमिटड कार्यक्रम में मुख्‍य अतिथि रही. उन्‍होंने कार्यालयों में संघ की राजभाषा नीति का यथापेक्षित अनुपालन सुनिश्चितकरने पर बल दिया तथा आह्वान किया कि केवल कार्यक्रमों / समारोहों में सीमित न होकर राजभाषा का प्रयोग वर्षभर किया जाना चाहिए.

श्री सी. मुरलीधरन, मुख्‍य प्रशासनिक अधिकारी ने स्‍वागत संबोधन किया. श्री नवीन कुमार यादव, सहायक निदेशक (रा भा) ने श्री राधा मोहन सिंह, माननीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री, भारत सरकार के संदेश तथा श्री राजनाथ सिंह, माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार के संदेश का वाचन किया.

इस अवसर पर विभिन्‍न प्रतियोगिताओं के विजेताओं तथा हिन्‍दी में मूल काम करने की प्रोत्‍साहन योजनाओं के विजेताओं को नकद पुरस्‍‍कार तथा प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए. समुद्री जैवविविधता प्रभाग को राजभाषा रॉलिंग ट्रोफी प्रदान की गयी.

श्री नवीन कुमार यादव, सहायक निदेशक (रा भा) ने धन्‍यवाद ज्ञापित किया. राष्‍ट्रगान के साथ कार्यक्रम समाप्‍त हुआ.

 

 

हिन्‍दी कार्यशाला 

 सी एम एफ आर आइ मुख्‍यालय के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए 8 फरवरी, 2017 को ‘बोलचाल की हिन्‍दी’ विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गयी. श्री के. राधाकृष्‍णन, भूतपूर्व मुख्‍य प्रबंधक, स्‍टेट बैंक ऑफ त्रावंकोर तथा संकाय- बैंकिंग/ मार्केटिंग/ हिन्‍दी ने कार्यशाला में व्‍याख्‍यान दिया.

  

कोच्‍ची नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति पुरस्‍कार

सी एम एफ आर आइ को राजभाषा के उत्‍कृष्‍ट निष्‍पादन के लिए कोच्‍ची नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति पुरस्‍कार 2015-16 (द्वितीय स्‍थान) प्राप्‍त हुआ. 

 

घटना कैलन्डनर

Back to Top