भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद
केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान
  • Sailfishlstiophorous platypteruscaught in long-line fishery  
  • Line caught frigate tunaAuxis thazard  
  • White SardineEsculosa thoracta in harbour  
  • Ring seine operation for small pelagics off kochi
  • Oil sardineSardinella longiceps catch at Munambam Fisheries Harbour

Home वेलापवर्ती मात्स्यिक

वेलापवर्ती मात्स्यिकी प्रभाग

अनुसंधान के महत्वपूर्ण क्षेत्र

विदोहित वेलापवर्ती संपदाओं की मात्स्यिकी एवं संपदा विशेषताओं का मूल्यांकन

प्रमुख विदोहित वेलापवर्ती मात्स्यिकी संपदाओं के बढ़ती, प्रवास एवं  स्टाक निर्धारण – सीधा

केरल, कर्नाटक, तमिल नाडु, ओडीषा, पश्चिम बंगाल, एवं लक्षद्वीप के लिए मात्स्यिकी प्रबंधन परामर्श का विकास

वेलापवर्ती मत्स्य प्रभव कायम रखने और इष्‍टतम स्तर की प्राप्ति के लिए प्रबंधन कार्यनीतियों का विकास

 

 चालू अनुसंधान परियोजनाएं

गृहांतर परियोजनाएं

कर्नाटक एवं गोआ की समुद्री मात्स्यिकी टिकाऊ बनाने के लिए मात्स्यिकी प्रबंधन योजनाओं का विकास

भारतीय समुद्र में बड़े वेलापवर्ती मात्स्यिकी एवं प्रभव को टिकाऊ बनाने के लिए कार्यनीतियों का विकास

तमिलनाडु एवं पुतुच्चेरी की समुद्री मात्स्यिकी टिकाऊ बनाने के लिए मात्स्यिकी प्रबंधन योजनाओं का विकास

गुजरात की समुद्री मात्स्यिकी टिकाऊ बनाने के लिए मात्स्यिकी प्रबंधन योजनाओं का विकास

भारत के उत्तर पूर्व तट की आनाय मात्स्यिकी : एक मूल्यांकन

 

प्रोयोजित परियोजनाएं

भारतीय महाद्वीपीय ढालू और केन्द्रीय हिन्द महासागर की तलमज्जी मात्स्यिकी संपदाओं का मूल्यांकन (वित्‍तीय सहायता- सी एम एल आर ई – पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय)

भारतीय समुद्र में ट्यूनों के प्रवास स्‍वरूप पर उपग्रह दूरमिति (Telemetry) अध्ययन - ‘SATTUNA’ (वित्‍तीय सहायता- आइ एन सी ओ आइ एस)

. परामर्श परियोजनाएं

शून्य

पूरी की गयी अनुसंधान परियोजनाएं (पिछली योजना अवधि)

. गृहांतर परियोजनाएं

केरल और लक्षद्वीप की टिकाऊ समुद्री मात्स्यिकी के लिए प्रबंधन परामर्श

कर्नाटक एवं गोआ की टिकाऊ समुद्री मात्स्यिकी के लिए प्रबंधन परामर्श

भारतीय तट पर टिकाऊ ट्यूना मात्स्यिकीय के लिए कार्यनीतियां

प्रायोजित परियोजनाएं

लक्षद्वीप समुद्र में महासागरीय ट्यूना मात्स्यिकी पर मूल्य श्रृंखला (वित्‍तीय सहायता-एन ए आइ पी भा कृ अनु प)

अरब सागर में माइक्टोफिड संपदाओं का निर्धारण और संग्रहण एवं संग्रहणोत्तर प्रौद्योगिकियों का विकास  (वित्‍तीय सहायता- सी एम एल आर ई – पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय)

भारतीय महाद्वीपीय ढालू की गहरा सागर मात्स्यिकी संपदाओं का निर्धारण (वित्‍तीय सहायता- सी एम एल आर ई – पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय)

परामर्श परियोजनाएं

M/s चेन्‍नई वाटर डीसलिनेशन लिमिटड, चेन्‍नई के विविध जैविक संस्‍थाओं से होने वाले उच्‍च खारा प्रवाह का संघात

तमिल नाडु सरकार के मात्स्यिकी विभाग, चेन्‍नई के सहयोग से तमिल नाडु के पांच तटीय जिलाओं में कृत्रिम भित्तियों की स्‍थापना

प्रौद्योगिकियॉं/ अवधारणाएं/ जांच-परिणाम

  • तारली, लेसर सारडीन, एंचोवी, भारतीय बांगड़ा, तटीय एवं महासागरीय ट्यूना, ट्यूना जीवित चारा, बिलफिश, करंजिड, फीतामीन, बम्बिल, बैराकुड़ा, किंग फिश और माइक्‍टोफिड मछलियों की मात्स्यिकी एवं संपदा विशेषताओं पर वैज्ञानिक सूचना का विकास और प्रलेखन.
  • प्रमुख मछली प्रजातियों की पकड़ में मछलियों के जीवविज्ञान – आहार एवं अशन, परिपक्‍वन, अंडजनन, मात्स्यिकी में नयी मछलियों का प्रवेश एवं आकार मिश्रण पर डाटाबेस का विकास.
  • पमुख प्रजातियों के जीवसंख्‍या प्राचलों और जीवविज्ञानीय संदर्भ पोइन्‍टों (बी आर पी) का आकलन और प्रलेखन किया गया.
  • विदोहन की गयी प्रमुख संपदाओं का स्‍टॉक निर्धारण करके इनका स्‍टॉक इष्‍टतम स्‍तर तक कायम रखने के लिए मात्स्यिकी प्रबंधन मार्गदर्शनों का प्रस्‍ताव किया गया.
  • केरल, कर्नाटक और गोवा की समुद्री मात्स्यिकी के लिए मात्स्यिकी प्रबंधन परामर्श (नीति सार) विकसित किए गए.
  • भारतीय तट पर तारलियों (सारडिनेल्‍ला लोंगिसेप्‍स) और फीतामीन (ट्राइक्‍यूरस लेप्‍ट्यूरस) के प्रवास मार्ग का मानचित्रण किया गया.
  • भारतीय समुद्रों में ट्यूनाओं के प्रवास स्‍वभाव पर साटलाइट टेलीमेट्री अध्‍ययन का प्रारंभ किया गया.
  • प्रमुख वेलापवर्ती ग्रुपों के वर्गीकरण पर अध्‍ययन किया गया, प्रजातियों की आकारमितीय और मेरिस्टिक विशेषताओं पर डाटाबेस विकसित किया गया और करंजिडों, ट्यूनाओं, बैराकुडाओं और अन्‍य बडी वेलापवर्ती मछलियों के फील्‍ड में पहचान का तरीका तैयार किया गया.   
  • बैराकुडाओं और ट्यूनाओं के आण्विक अध्‍ययन पूरा किया और बारकोड एन सी बी आइ में जमा किया गया.
  • बैराकुडा, बम्बिल और कई गहरा सागर मछलियों की नयी प्रजातियों पर उल्‍लेख किया गया.
  • सी एम एफ आर आइ, कोच्‍ची के प्रभाग में मछली आयु निर्धारण और बिम्‍ब विश्‍लेषण प्रयोगशाला स्‍थापित किया गया.
  • ओटोलिथ अभिलेख उपयुक्‍त करके येलोफिन ट्यूना और माही माही (कोरिफीना) का आयु निर्धारण किया गया.

घटना कैलन्डनर

Back to Top