भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद
केन्द्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान

  • Coral biodiversity assessments
  • Soft coralCladiella australis
  • Scorpion fishRhinopias eschmeyeri
  • Soft coral culture experiments
  • White spotted PufferfishArothron hispidus

Home जैवविविधता

जैवविविधता प्रभाग

अनुसंधान के महत्वपूर्ण क्षेत्र

 

भारतीय समुद्र की जैविक विविधता निर्धारण को बढ़ावा देने के लिए भारतीय पख मछली एवं कवच मछली की जैव विविधता ज्ञान विकसित करना

भारतीय तट पर चुने गए समुद्री पारितंत्रों में समुद्री जीवों की जैव विविधता का मूल्यांकन


खतरे में पड़ गयी प्रजातियों और मात्स्यिकी प्रबंधन के सन्दर्भ में जैवविविधता हानि पर मत्स्यन संघातों का निर्धारण

आर्थिक प्रमुख और खतरे की आशंका होनेवाले और भंगुर पारितंत्र के परिरक्षण जीवशास्‍त्र का मानिटरिंग 

सूचनाओं को वेब के द्वारा विकीर्णन करने और सब को आसानी से उपलब्‍धता के लिए समुद्री जैवविविधता संग्रहालय के डाटा बेस का विकास एवं अनुरक्षण

Ongoing Research Projects:

चालू अनुसंधान परियोजनाएं

 

क. गृहांदर परियोजनाएं

परिरक्षण के लिए प्रबंधन उपाय तैयार करने पर विशेष बल देते हुए समुद्री भारतीय जलक्षेत्रों के जैवपहचान एवं जैवविविधता मूल्यांकन

परिरक्षण के लिए प्रबंधन उपाय तैयार करने पर विशेष बल देते हुए  भारतीय समुद्र के सुभेद्य प्रवाल भित्ति पारितंत्र पर अन्वेषण

खतरे में पड़ गयी प्रजातियों के विशेष सन्दर्भ में उनके संरक्षण के लिए जैवविविधता हानि पर मत्स्यन संघातों का मूल्यांकन

पूरी की गयी अनुसंधान परियोजनाए  Completed Research Projects:                                                             

क. गृहांदर परियोजनाएं

दक्षिण भारत के खतरे में पड़े प्रवाल भित्ति पारितंत्र पर समझना और उसके पुनःस्‍थापना के लिए हस्तक्षेपों का रूपायन करना

भारत के लुट्जानिडे कुटुम्‍ब की मछलियों के प्रजाति परिवर्तन और जैवविविधता

खुला सागर पिंजरा मछली पालन में जैवविविधता और पारिस्थितिक परिवर्तन का निर्धारण

भारत के दक्षिण पश्चिम तट के समुद्री पारितंत्रों की जैवविविधता का मूल्यांकन

 

Technologies/Concepts/Findings                                          प्रौद्योगिकियॉं/ अवधारणाएं/ जांच-परिणाम

  • प्रयोगशाला और खुले समुद्र में सिनुलेरिया कवरत्तिएन्सिस के फैलाव के लिए प्रौद्योगिकियॉं

विकसित की गयीं

  • प्रयोगशाला में मृदु प्रवालों – क्‍लाडिएल्‍ला लासिनियोसा, डाम्पिया पोसिल्‍लोपोरिफोर्मिस और

लोबोफाइटम पॉसिफ्लोरम के फैलाव के लिए प्रौद्योगिकियॉं विकसित की गयीं

  • स्‍पंजों और कठोर प्रवालों के फैलाव के लिए प्रौद्योगिकियॉं विकसित की गयीं
    • आन्‍डमान समुद्र से पायी गयी विज्ञान क्षेत्र के लिए नयी गहरा सागर स्‍पंज की प्रजातियॉं: वर्ल्‍ड पोरिफेरा डाटाबेस (डब्लियु पी डी) और वर्ल्‍ड रजिस्‍टर ऑफ मराइन स्‍पीशीस (डब्लियु ओ आर एम एस) में पंजीकरण की गयी.
  • विज्ञान क्षेत्र के लिए नयी प्रवालों की चार प्रजातियों, एक्रोपोरा तोमसी, ए. वलमुनेन्सिस, ए. मन्‍नारेन्सिस और ए. जोसफी पर विवरण
  • ब्‍लीकेरिया मर्टी - विज्ञान क्षेत्र के लिए नयी मछली प्रजाति पर विवरण
  • विषिंजम की पोराइट प्रजाति से विलगित विशेष जीवाणु प्रभेद C29 16S rRNA जीन अनुक्रम और ब्‍लास्‍ट सेर्च के अधीन पाया गया. यह प्रभेद फ्लेक्‍सीबैक्‍टीरेसिए कुटुम्‍ब के अंदर फाबीबाक्‍टर हालोटोलेरन्‍स प्रजाति के समान शक्‍य नव जीनस देखा गया.
  • जी ओ एम बी आर के शैवालों की 85 प्रजातियों का हेर्बेरियम विकसित किया गया.
  • भारतीय समुद्रों से नए वितरण रिकार्ड

 

 

EVENT CALENDAR

June 2017
29
30
31
1
2
3
4
5
6
7
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
29
30
1
2
Back to Top